Curtains

   About the poet – I found this and a few other poems in the diary of an 18-year old girl a couple of years ago.  She would rather remain anonymous. Actually, she can’t remember writing them in the first place and thinks they are rather inane. So when I thought they should be recorded […]

यादों के पार

   हम मिलें हैं क्या? बंद दरवाज़ों के आर पार कभी? एक ख़्वाब में, जो शायद  कभी देखा ही नहीं? या ग़ज़ल में किसी जो अभी कहनी बाक़ी है? उस लफ़्ज़ में जो, अनबोला, मेरे होंठों पे बैठा है उदास या अनपढ़ा, पड़ा  इंतज़ार में  इक किताब में? हम मिलें हैं कभी? धुएँ में उस […]